Saturday, June 26, 2010

कार्टून-इस हाथ का क्या करूँ

5 comments:

काजल कुमार Kajal Kumar said...

न न न
"वो" हाथ मुझे ले के दे दे ठाकुर
:-))

Udan Tashtari said...

तोड़ दो...ये वाला नहीं वो वाला.

Surendra Singh Bhamboo said...

हाथों को तोड़ने से कुछ नहीं होने वाला सोच को बदलना होगा


आप हमारे ब्लाग पर आये और पढा इसके लिए आपको धन्यवाद आपकी ट्पिणी मिली मुझे भी आपसे दोस्ती करके बहुत अच्छा लगेगा आप अपना ई मेल पता दे तथा अपने फोन नम्बर दे ताकि जयपुर की तरफ आना हो तो आपसे मुलाकात हो सके वैसे मैं भी किसी मिडिया की ब्रांच लाने की तलाश में हूं
मैने एक ब्लाग एगरीकेटर प्रारम्भ किया आप भी अपने ब्लाग् को उसमें शामील कर सकते है।
जिससे आपके विचार ज्यादा से जयादा लोगों तक पहुचाये जा सकें उस एगरीकेटर का लिंक मैं नीचे डाल रहा हूं वहां से आप अपने ब्लाग को एड कर सकते है।
हमारे ब्लॉग पर आपका स्वागत है।
मालीगांव
साया


आपकी पोस्ट यहा इस एगरीकेटर लिंक पर भी पर भी उपलब्ध है। देखने के लिए क्लिक करें
लक्ष्य
इस ल्क्ष्य नामक एगरीकेटर पर जाकर आप अपने ब्लाग् को सबमिट करवा सकते है।
http://laxya.feedcluster.com/forms/add.jsp

H P SHARMA said...

jabardast aakrosh ko chitra mai samet diya hai.

aapse milne ka man rahta hai
kabhee bat kafriye
9001896079

संगीता पुरी said...

अच्‍छे कार्टून्‍स बनाते हैं आप .. शुभकामनाएं !!