Tuesday, July 1, 2008

admishion


3 comments:

Mired Mirage said...

हाहाहा ! बढ़िया !
घुघूती बासूती

संजय बेंगाणी said...

रेजगारी भी बटोर लेना, अभिवाभव है, काहे छोड़ना :)

Udan Tashtari said...

हा हा!! संजय भाई भी आपबीती से परेशान नजर आये. :)